Friday, June 11, 2010

तन्हा सफर




मैं सफर में थी
ऐसा नहीं कि मैंने तुम्हें याद न किया
तुम्हें खत न लिखे
मगर वो हवाएं न थीं
जो मेरी सांसों को उड़ा ले जातीं
वो हरकारा न था
जो मेरे खतों को तुम तक पहुंचाता
हर पल.हर क्षण
हर पत्ते .फूल और कण.कण में
तपती धूप और जलते पानी से
बनते बादल में छुपे सूरज में
सुनसान अंधेरे बियाबान , जंगल .पहाड़ों में
मैं हैरान थी
मैं सफर में थी
पर तुमसे दूर नहीं
शायद निगाहों से
पर मन से नहीं ।

7 comments:

  1. umda rachna...

    iianuii.blogspot.com

    ReplyDelete
  2. खूबसूरती से लिखे एहसास...

    ReplyDelete
  3. भावों की आकर्षक अभिव्यक्ति.....सुन्दर,सशक्त व सार्थक रचना..बधाई।

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़िया रचना

    ReplyDelete
  5. Bahut anoothi rachna hai!Pahli baar aapke blog pe aayi hun!

    ReplyDelete
  6. Bahut khoobsoorat rachna...aur parichay dene ka tareeqa bahut bha gaya!

    ReplyDelete